Kosi Times
तेज खबर ... तेज असर

ये हमारा Archieve है। यहाँ आपको केवल पुरानी खबरें मिलेंगी। नए खबरों को पढ़ने के लिए www.kositimes.com पर जाएँ।

- Sponsored -

- Sponsored -

- sponsored -

मधेपुरा : डीडीसी ने क्रॉप कटिंग का किया निरीक्षण

- Sponsored -

सिंहेश्वर,मधेपुरा/ प्रखंड क्षेत्र के लालपुर सरोपट्टी राजस्व गांव सरोपट्टी में डीडीसी ने धान क्रॉप कटिंग का निरीक्षण किया. इस दौरान उन्होंने खुद से भी फसल को काटा. जानकारी के अनुसार
जिले भर में सांख्यिकी विभाग एवं कृषि विभाग के तत्वधान में धान क्रॉप कटिंग कार्यक्रम का आयोजन किया गया है. इसी दौरान लक्ष्मीनियां टोला वार्ड संख्या 14 निवासी किसान कुसुमलाल यादव के भूमि पर पहुँचकर उपविकास आयुक्त नितिन कुमार सिंह ने अपने हाथों से “राजेन्द्र मंसूरी” धान किस्म का क्रॉप कटिंग किया.

इस मौके पर डीडीसी ने कहा कि क्रॉप कटिंग का मूल उद्देश्य यह है कि अगहनी फसल में जिले भर में धान के प्रोडक्टिविटी कितना हुआ. इसी उपज के आधार पर किसानों से धान अधिप्राप्ति व्यापक पैमाने पर किया जाएगा. वहीं दुसरी तरफ बताया गया कि चिन्हित 50 वर्ग मीटर में फसल कटनी के बाद वजन 20 किलो 100 ग्राम पाया गया. जो अच्छी पैदावार को दर्शाता है. यह भी बताया गया कि जिले में उगाई जाने वाली फसलों की औसत पैदावार का आंकड़ा क्रॉप कटिंग एक्सपेरिमेंट के जरिए ही निकाला जाता है. इसी के तहत विभाग के उच्च अधिकारियों द्वारा अपनी देखरेख में फसल कटाई प्रयोग का निरीक्षण किया जाता है. ताकि सरकार को सही आंकड़े प्रस्तुत किए जा सकें.

विज्ञापन

विज्ञापन

मौके पर जिला सांख्यकी पदाधिकारी राजदेव प्रसाद, बीडीओ राज कुमार चौधरी, उद्यान पदाधिकारी मनीष कुमार, बीएओ सच्चिदानंद कुमार, कृषि समन्वयक सुनील कुमार सुमन, रजनीश कुमार, किसान सलाहकार अश्विनी कुमार पाठक, पंकज कुमार, प्रवीण कुमार राम, मनोज कुमार, शंकर कुमार सुमन, राणा संग्राम सिंह आदि मौजूद थे.

किसानों की सुनी समस्या– डीडीसी जब क्रॉप कटिंग कर रहे थे तभी ही किसान कुसुमलाल यादव ने खेती में होने वाली समस्या से अवगत कराया. किसान ने बताया कि वो लोग खेत में जलजमाव से काफी परेशान रहते हैं. अगर पानी निकासी के लिए नहर के दूसरे तरफ ड्रेनेज बना दिया गया तो काफी हद तक जलजमाव से छुटकारा मिल जाएगा. जिसके बाद डीडीसी नहर पर पहूंच स्थल निरीक्षण किया और लोगों के साथ बातचीत की. और फिर विभिन्न पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया. इस दौरान नहर में पानी छोड़ने की बात भी हुई लेकिन बताया गया कि नहर कई जगहों पर क्षतिग्रस्त हैं. इसलिए नहर में भी पानी नही छोड़ा जा सकता हैं.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

आर्थिक सहयोग करे

Comments
Loading...